Shayari On Life

2
Shayari On Life  जूझती रही....बिखरती  रही... टूटती रही, कुछ इस तरह जिंदगी....निखरती रही |Deep Shayari न बदली वक्त की गर्दिश न जमाना बदला, जब सूख गई पेड़ की डाली 🍂 तो परिंदों ने ठिकाना बदला.Two Line...

FOLLOW US

27,896FansLike
3,665FollowersFollow
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe